History of Computer in Hindi | कंप्यूटर का इतिहास और विकास

कंप्यूटर शब्द अंग्रेजी भाषा के कंप्यूट शब्द से बना है। जिसका अर्थ है “गणना करना”, कंप्यूटर अंग्रेजी शब्द है हिंदी में इसका अर्थ “संगणक” होता है।

कंप्यूटर का इतिहास बहुत ही पुराना है, मानव द्वारा खोज की गयी यह इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पुरे विश्व के लिए एक महत्वपूर्ण वरदान साबित हुआ जिसके चलते आज मनुष्य का जीवन बहुत ही सरल हो गया है। वह इस डिवाइस की मदद से बिलकुल सटीक गणना करने में सक्षम है।

तो आइये कंप्यूटर के इतिहास के बारे में जानने की कोशिश करते है

History of Computer in Hindi – कंप्यूटर का इतिहास क्या हैं

‘कंप्यूटर’: अक्सर हमारे मन में ये सवाल बार-बार आता है कि कंप्यूटर का आविष्कार आखिर किसी ने क्या सोच कर किया होगा, तो इसका सीधा सा जवाब है हम मानव जीवन को और भी बेहतर बनाने के लिए, तो चलिए पलटते है इतिहास के पन्नो को और समझने की कोशिश करते है कि आखिर कंप्यूटर के इतिहास क्या है? (History of Computer)

 

Abacus – अबेकस

अबेकस शब्द की उत्पत्ति लैटिन शब्द “एबेकोन” से हुई है जिसका अर्थ है एक ऐसा टेबलेट जो “गणितीय गणना” करता है। इसका आविष्कार आज से लगभग 600 ईसा पूर्व चीन में हुआ था।

abacus device, history of computer in hindi
abacus device

अबेकस एक आयताकार फ्रेम का पिरोयी हुई मोतियों का ढांचा है ये मोतिया तारो की लाइन में संजोई रहती है इसकी मदद से गुणा, भाग, जोड़ना, घटाना आदि जैसे गणनाए की जाती है।

 

John Napier’s Bone – जॉन नेपियर बोन (हड्डी)

john napier's bone in hindi
john napier’s bone in hindi

इसका आविष्कार सन्न 1550-1617 के बीच ‘जॉन नेपियर‘ के द्वारा किया गया था। ‘जॉन नेपियर‘ बहुत ही महान Physician तथा Mathematician थे। इनके इस आविष्कार ने गणित में दशमलव बिंदु का उपयोग सरल बना दिया।

 

Pascaline – पास्कालाइन यंत्र

फ्रांस के महान गणितज्ञ “ब्लेज़ पास्कल” (Blaize Pascal) ने एक ऐसा यांत्रिक बनाया जिससे अंकीय गणना आसानी से हो जाती है। ब्लेज पास्कल ने यंत्र का आविष्कार सन्न 1642 ईo पूo में किया था, यह यंत्र केवल अंको को जोड़ने तथा घटाने का काम करती थी इसलिए इसको ‘Addin Machine‘ के भी नाम से जाना जाता है।

pascaline calculator device in hindi
pascaline calculator device in hindi

यह यंत्र घड़ी व् ओडोमीटर के सिद्धांत पर लागू होती है इसे दुनिया का ‘सबसे पहला यांत्रिक गणना यंत्र‘ (Mechanical Calculating Machine) माना गया है।
इस यंत्र में गियर के साथ-साथ पहिये व सिलिण्डर भी होते है।

 

Jacquard’s loom – जेकार्ड का लूम

सन्न 1801 में फ्रांस के बुनकर “जोसेफ जेकार्ड” ने एक ऐसे लूम(Loom) का आविष्कार किया जो कि कपड़ों की डिज़ाइन में कैसा पैटर्न होगा उसे स्वंय ही तैयार कर देता था, इस मशीन की खास बात यह थी कि यह कार्डबोर्ड के छिद्रित पंच कार्ड के साथ कपड़ो के पैटर्न को कण्ट्रोल करता था।

jacquard's loom in hindi
jacquard’s loom in hindi

इस आविष्कार को कपड़ो बुनने के लूम के नाम से भी जाना जाता है।

*****यह भी पढ़े*****:

कंप्यूटर क्या है

Click ?? :  हमारे टेलीग्राम (Telegram) @coderduniya चैनल को भी सब्सक्राइब / Join कर लीजिये ताकि आपको समय पर नोटिफिकेशन मिलती रहे धन्यवाद |

Difference Engine – डिफरेंस इंजन

Math के प्रोफेसर “चार्ल्स बैबेज” (Charles Babbage) ने पास्कलाइन को विश्लेषण करके एक गणना करने वाली ऐसा यंत्र बनाया जिसका नाम Difference Engine रखा।

 

Analytical Engine – एनालिटिकल इंजन

चार्ल्स बैबेज” ने सन्न 1842 में एक मशीन बनाई जिसका नाम एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine) रखा, यह मशीन पूरी तरह से स्वचालित थी और यह प्रति मिनट 60 की स्पीड से गणनाए कर लेती थी।

लेकिन किसी कारण से चार्ल्स बैबेज ने इस यंत्र को वास्तविक रूप नहीं दे सके लेकिन मशीन आगे जाकर आधुनिक कंप्यूटर का रूप ले लिया इसलिए “कंप्यूटर का जनक” Charles Babbage को माना जाता हैं।

 

कुछ महत्वपूर्ण खोजें – History of Computer in Hindi

ENIAC

सन्न 1943 और 1945 में इस कंप्यूटर का निर्माण किया गया इसका उपयोग “संयुक्त राष्ट्र अमेरिका” (United States of America) की सेना में प्रयोग के लिया किया गया था। ENIAC का फुल फॉर्मElectronic Numerical Integrator and Computer” हैं।

EDSAC

वांन न्यूमैन के सिद्धांत के आधार पर कैंब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर “मौरिस विल्किस” (Maurice Wilkes) ने सन्न 1940 ईo में इस कंप्यूटर को बनाया था। इस कंप्यूटर से पहला प्रोग्राम 6th मई 1949 को रन किया गया था। EDSAC का फुल फॉर्मElectronic Delay Storage Automatic Calculator” हैं।

EDVAC

यह एक पहला कंप्यूटर था जिसमे बाइनरी (Binary) अंक प्रणाली तकनिकी का प्रयोग किया गया था इसको “J. Presper Eckertसन्न 1950 में बनाया था। EDVAC का फुल फॉर्मElectronic Discrete Variable Automatic Computer” हैं।

 

Generation of Computer or History of Computer in Hindi

निचे दिए गए टेबल में कंप्यूटर की पीढ़ियों को बारे में दर्शाया गया है –

क्रम. पीढ़ियाँ समय – काल महत्वपूर्ण खोज
1. प्रथम पीढ़ी 1942 से 1955 वैक्यूम ट्यूब
2. द्वितीय पीढ़ी 1955 से 1964 ट्रांजिस्टर
3. तृतीय पीढ़ी 1964 से 1975 IC (Integrated Circuit)
4. चतुर्थ पीढ़ी 1975 से 1990 VLSI
5. पंचम पीढ़ी 1990 से Present ULSIC With AI

 

आज हमें सीखा – कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

  • कंप्यूटर का जनक चार्ल्स बैबेज हैं।
  • अबेकस डिवाइस का 600 ईसा पूर्व चीन में हुआ था।
  • John Napier’s Bone यंत्र से किसी अंक को जोड़, गुणा व भाग आसानी से किया जाता था।
  • पास्कालाइन को “Adding Machine” भी कहा जाता है, यह मशीन घड़ी व ओडोमीटर के सिद्धांत पर लागू होती हैं।
  • जेकार्ड का लूम कपड़ों के डिज़ाइन पैटर्न अपने आप तैयार कर देता था।

 

दोस्तों उम्मीद करता हूँ कि मेरे द्वारा लिखे गए पोस्ट (History of Computer in Hindi) आपको बहुत ही पसंद आया होगा अगर आपको इस पोस्ट से जुडी कोई सवाल या सुझाव है तो “Comment Box” में पूछ सकते है, मैं आपके पूछे गए प्रश्नो को जवाब देने की पूरी कोशिश करूँगा धन्यवाद।

Leave a Comment